वक़्त से दिन और रात –

वक़्त से कल और आज –

वक़्त की हर शह ग़ुलाम –

वक़्त का हर शह पे राज

वक़्त की पाबन्द हैं आते जाते रौनके – 

 वक़्त है फूलों की सेज –

वक़्त है काँटों का ताज

वक़्त से दिन और रात …

आदमी को चाहिये वक़्त से डर कर रहे –

कौन जाने किस घड़ी वक़्त का बदले मिजाज़

वक़्त से दिन और रात …

Advertisements

Kindly Post your Comments after Reading

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.